कफ (Cough) के लक्षण, कारण और निकालने के उपाय

कफ(बलगम) को श्लेष्मा भी कहते हैं। इसकी उत्पत्ति अपने मूल तत्त्वों, पृथ्वी तथा जल से हुई है। यह चिकना, ठोस, मृदु, रूढ़, भारी और ठंडा होता है।

स्थूल शरीर का निर्माण कफ से होता है। कफ(बलगम) के कार्य हैं-स्निग्धता तथा स्थिरता देना, जोड़ों की मजबूती, सहनशीलता, क्षमा तथा लालच से बचने की शक्ति प्रदान करना।

कफ-प्रधान व्यक्तियों का शरीर सुगठित एवं सुदृढ़ होता है जिसके सारे अंग सुविकसित होते हैं। इस दोष में मृदुता के कारण कफ-प्रधान व्यक्तियों का शुक्र अधिक प्रबल होता है, अत: वे कफ-प्रधान व्यक्ति अपने कामों में मन्दगति होते हैं और शीघ्र किसी विषय पर निर्णय नहीं ले पाते। प्राय: अव्यवस्थित होते हैं।

उनकी गतिविधियाँ दृढ़ होती हैं। उनके शरीर के जोड़ संयुक्त और सुदृढ़ होते हैं। इस दोष के शीत-प्रधान लक्षण के कारण ऐसे लोगों को भूख और प्यास कम लगती है तथा शरीर से मल का विसर्जन भी कम होता है। कफ प्रकृति के व्यक्तियों की आँखें, चेहरा और त्वचा साफ होती है। खांसी(कफ) निकालने के घरेलु उपाय से हम अपनी खांसी से छुटकारा पा सकते है। कफ(बलगम) के लक्षण, कारण, उपाय, प्रकार कुछ इस प्रकार है।

कफ (बलगम) के प्रकार - Types Of Cough

कफ(बलगम) के प्रकार के बारे मे  कुछ इस प्रकार नीचे बताया गया है-

ब्रोंकाइटिस (Bronchitis)

इस प्रकार की खांसी पीले-भूरे रंग के कफ का निर्माण करती है और सामान्य रूप से ठंड जैसे लक्षण जैसे कि भरी हुई नाक, सिरदर्द और थकान होती है।

वायरल खांसी (Viral Cough)

खांसी, वायरल श्वसन संक्रमण का एक आम लक्षण है। आमतौर पर यह खांसी संक्रमण से ठीक होने के कुछ समय बाद चली जाती है। लेकिन कुछ मामलों में, आपके ठीक होने के बाद आपकी खाँसी लंबे समय तक बनी रह सकती है।

वह खांसी जो एक वायरल श्वसन संक्रमण के तीन सप्ताह से अधिक समय तक रहती है, उसे पोस्ट-वायरल या पोस्ट-संक्रामक खांसी कहा जाता है।

काली खांसी (Whooping Cough)

एक जीवाणु संक्रमण है जो आपकी नाक और गले में जाता है। यह बहुत आसानी से फैलता है, लेकिन DTaP और Tdap जैसे टीके बच्चों और बड़ो में काली खांसी रोकने में मदद कर सकते हैं।

सूखी खांसी (Dry Cough)

सूखी खांसी बलगम नहीं लाती है। ऐसा महसूस हो सकता है कि आपके गले के पिछले हिस्से में गुदगुदी हो रही है, जिससे आपको खाँसी आने लगती है। सूखी खाँसी अक्सर नियंत्रित करना मुश्किल होता है और लंबे समय तक फिट होने में समय लग सकता है। सूखी खाँसी होती है क्योंकि आपके श्वसन पथ में सूजन या जलन होती है, लेकिन खांसी के लिए कोई अतिरिक्त बलगम नहीं है।

सूखी खांसी अक्सर ऊपरी श्वसन संक्रमण के कारण होती है, जैसे सर्दी या फ्लू। बच्चों और वयस्कों दोनों में, सर्दी या फ्लू होने के बाद कई हफ्तों तक सूखी खाँसी का होना। सूखी खांसी के अन्य संभावित कारणों में शामिल हैं।

छाती(सीने) की खांसी (Chest Cough)

छाती से आने वाली खांसी अक्सर अत्यधिक बलगम द्वारा बार-बार होती है। इस प्रकार की खांसी को कभी-कभी "उत्पादक खाँसी" के रूप में जाना जाता है क्योंकि खाँसी के कार्य से छाती में बलगम निकल जाता है।

कफ (बलगम) के लक्षण - Symptoms Of Cough In Hindi

अगर आपको भी कफ(बलगम) के लक्षण दिखे तो उसका उपचार तुरंत करे जो इस प्रकार दिया गया है जैसे-

  • हल्का बुखार और ठंड लगना
  • सीने में बेचैनी होना कफ के लक्षण मे सबसे प्रमुख है
  • गले में खराश और स्वभाव मे चिड़चिड़ापन होना
  • आवाज़ बैठना(Hoarseness)
  • बहती नाक होना
  • छींक आना
  • निगलने में कठिनाई या खांसी होना
  • रात को पसीना आना
  • साँसों की कमी

कफ (बलगम) होने के कारण - Causes Of Cough In Hindi

ज्यादातर मामलों में, संक्रमण(Infection) ऊपरी श्वसन पथ में होता है और गले को प्रभावित करता है, इसे URTI या URI (ऊपरी श्वसन पथ, upper respiratory tract infection) के रूप में जाना जाता है। कफ(बलगम) होने के कारण के लिए हमने कुछ उदाहरणों को नीचे दिये है-

  • सामान्य जुखाम
  • लैरींगाइटिस(Laryngitis)
  • फ़्लू(Flu)
  • ठंड लग जाना
  • बहुत जादा ठंडा खाना खा लेना या कुछ ठंडा पी लेना

पुरानी खांसी के कारण -

  • दमा के कारण
  • धूम्रपान के कारण
  • कुछ दवाएं (जैसे, एसीई इनहिबिटर)
  • बलगम नाक के पीछे से नीचे की ओर टपकता है (नाक से टपकना)
  • जीईआरडी (गैस्ट्रो-इसोफेजियल रिफ्लक्स रोग, gastro-esophageal reflux disease)

और पढे- दमा क्या है? के बारे मे विस्तृत जानकारी

कफ (बलगम) निकालने के उपाय - Remedies To Remove Cough In Hindi

कफ(बलगम) निकालने के उपाय कुछ इस प्रकार है:

  • गीली खाँसी से बचने के लिए काली मिर्च की चाय पीना सही होता है, यह बलगम निकालने का सबसे अच्छा उपाए है।
  • अगर कफ बहुत तेज हो रही हो तो, तुरंत राहत के लिए एक नींबू चूसें।
  • गर्म दूध मे हल्दी मिला कर रात को पीने से कफ मे राहत मिलती है।
  • गर्म स्नान करने से शरीर को गरमाहट मिलती  है जिससे कफ मे फायदा मिलता है।
  • अजवायन के फूल बलगम को तोड़ सकता है और शरीर से निकाल सकता है।
  • नमक के पानी का गरारा करने से बलगम निकालने का सबसे अच्छा उपाए है।
  • अदरक कफ को काट टी है। तो जितना ज्यादा हो सके अदरक का सेवन करे।
  • शहद, लौंग, अदरक की चाय पीये।
  • गरम पानी मे विक्स(Vicks) डाल कर भाप लें।
  • तरल एवं गर्म पदार्थ जितना हो उतना पीये।अजवायन के फूल बलगम को तोड़ सकता है और शरीर से निकाल सकता है।

     

You can share this post!

विशेषज्ञ से सवाल पूछें

पूछें गए सवाल