मल परीक्षण (Stool Test), मल जाँच क्या होता है और मल टेस्ट कैसे किया जाता है

मल क्या होता है? मल-त्याग हमारी पाचन क्रिया का अंतिम चरण है। यह वह अवस्था है जब शरीर आवश्यक तत्त्वों का अवशोषण (Absorption) कर चुका होता है तो बचे हुए पदार्थ को मल के रूप मे बाहर निकालता है।

यदि समय पर मल-त्याग की इच्छा नहीं होती तो मल आंतों में इकट्ठा होने लगता है तो इससे स्वास्थ्य में गम्भीर समस्याएँ पैदा हो सकती है।

यदि आपको पेट की समस्या हो रही है, तो आपका डॉक्टर स्टूल कल्चर का आदेश दे सकता है या स्टूल का नमूना ले सकता है। यह परीक्षण बैक्टीरिया, वायरस, या अन्य कीटाणुओं की परीक्षण के लिए किया जाता है जो आपको बीमार कर सकते हैं।

मल (स्टूल) जाँच क्या होता है - What Is Stool Check In Hindi

एक मल जाँच का उपयोग रक्त या अन्य गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल असामान्यताओं की उपस्थिति का पता लगाने के लिए किया जाता है। मल परीक्षण के परिणामों का उपयोग शारीरिक परीक्षा, रक्त परीक्षण और एंडोस्कोपी और इमेजिंग सहित चिकित्सकीय प्रक्रियाओं के परिणामों के साथ किया जाता है। जैसे कि -

  • बृहदान्त्र(colon)
  • गैस्ट्रिक कैंसर,
  • सूजन आंत्र रोग,
  • बवासीर,
  • गुदा विदर
  • संक्रमण

और पढे- कैंसर क्या है?

मल (स्टूल) परीक्षण के प्रकार - Types Of Stool Test In Hindi

मल परीक्षण के दो प्रकार मुख्य​ रूप से है जो निम्नवत है-

  • एक फेकल मनोगत रक्त परीक्षण (FOBT) - आपके मल में रक्त की उपस्थिति का पता लगाता है।
  • एक मल डीएनए परीक्षण - पॉलीप्स और कैंसर ट्यूमर से आनुवंशिक सामग्री की उपस्थिति का पता लगाता है।

मल (स्टूल) परीक्षण कब करवाना चाहिए - When To Get Stool Test

स्टूल (Stool) टेस्ट कब कराना चाहिए ये आपका चिकित्सक आपके होने वाले रोग के हिसाब से बताता है जैसे-

  • लंबे समय तक दस्त होना
  • खूनी दस्त होना
  • गैस की बढ़ती मात्रा
  • मतली, उल्टी आना
  • भूख न लगना 
  • पेट फूलना, पेट में दर्द और ऐंठन बने रहना
  • ज्यादा टाइम तक बुखार रहे 
  • मल से तीव्र दुर्गध आए
  • मल पानी मे तैरने पर
  • सख्त, सूखा, रुक्ष, सलेटी या काले रंग का मल होने पर
  • सफेदी लिए हुए चिपकने वाला होने पर
  • श्लेष्मायुक्त (Mucous) मल बढ़े हुए कफ की सूचना देता है
  • दूषित वात का संकेत देता है।

    हरा और पतला मल पित्त से दूषित होने का

मल (स्टूल) टेस्ट कैसे किया जाता है - How To Do Stool Test

मल टेस्ट कैसे किया जाता है? यह पथोलोजी की प्रयोगशाला मे टेस्ट किया जाने वाला टेस्ट है जिसकी विधि निम्नवत दी गयी है-

  • विश्लेषण के लिए, एक मल का नमूना एक साफ कंटेनर में एकत्र किया जाता है।
  • फिर प्रयोगशाला में भेजा जाता है।
  • प्रयोगशाला विश्लेषण में सूक्ष्म परीक्षण, रासायनिक परीक्षण और माइक्रोबायोलॉजिकल परीक्षण शामिल हैं।
  • रंग, स्थिरता, राशि, आकृति, गंध और बलगम की उपस्थिति के लिए मल की जाँच की जाती है।
  • मल को छिपे हुए (गुप्त) रक्त, वसा, मांस फाइबर, पित्त, श्वेत रक्त कोशिकाओं और शर्करा को कम करने वाले पदार्थों की जांच की जा सकती है।
  • मल का पीएच भी मापा जाता है।
  • एक स्टूल कल्चर यह पता लगाने के लिए किया जाता है कि क्या बैक्टीरिया संक्रमण पैदा कर सकता है।
  • बुखार सहित पाचन तंत्र को प्रभावित करने वाले लक्षणों का कारण खोजने में मदद करता है।
  • एक ताजा मल का नमूना 2 घंटे के भीतर प्रयोगशाला में ले जाया जाता है।
  • एक संग्रह की शीशी जिसमें संरक्षक होता है।

स्टूल टेस्ट के दौरान किन चीजों से बचना चाहिए - What Things To Avoid During Stool Test

स्टूल टेस्ट के दौरान किन चीजों से बचना चाहिए यह आपको बताया जा रहा है-आपको परीक्षण से 2 से 3 दिन पहले कुछ खाद्य पदार्थों से बचने की आवश्यकता हो सकती है। आपको मल विश्लेषण के आधार पर कुछ दवाओं से बचने की आवश्यकता होगी। आपको टेस्ट से पहले 1 से 2 मिनट पहले-

  • एंटासिड
  • एंटिडायरेथियल दवाएं
  • एंटीपैरसाइट दवाएं
  • एंटीबायोटिक्स
  • जुलाब या नॉनस्टेरॉइडल एंटी-इंफ्लेमेटरी ड्रग्स (NSAIDs) 

जैसी दवाएं लेने से रोकना पड़ सकता है। अपने चिकित्सक को आपके द्वारा ली जाने वाली सभी गैर-पर्चे और पर्चे वाली दवाओं के बारे में बताना चाहिए।

  • अपने मासिक धर्म के दौरान या बवासीर से सक्रिय रक्तस्राव होने पर परीक्षण न करें।
  • टॉयलेट बाउल की सफाई करने वाले उत्पादों के संपर्क में न रहे जो पानी को नीला करते हैं, ऐसे मे परीक्षण के लिए स्टूल सैंपल का इस्तेमाल न करें।

और पढे- मासिक धर्म के बारे मे विस्तृत जानकारी

मल (स्टूल) टेस्ट के क्या जोखिम होते हैं - What Are The Risks Of Stool Test

मल (स्टूल) टेस्ट के क्या जोखिम होते हैं​ यह लोगो के मन मे अक्सर आता है लेकिन इस टेस्ट से जुड़े कोई जोखिम नहीं हैं। हालांकि, आपके मल के नमूने में संक्रामक रोगजनक (Pathogenic) हो सकते हैं जो दूसरों में फैल सकते हैं। अपने नमूने को इकट्ठा करने के बाद जीवाणुरोधी साबुन से अपने हाथों को अच्छी तरह से धोना चाहिए।

पाचन तंत्र के जीवाणु संक्रमण से बचने के लिए क्या करें - What To Do To Avoid Bacterial Infection Of The Digestive System

पाचन तंत्र के जीवाणु संक्रमण से बचने के लिए क्या करें के लिए हम कुछ उपाए बता रहे है जो निम्नवत है

  • पानी और न ही ऐसा खाना खाएं जो दूषित हो और अच्छी तरह से बार-बार हाथ धोने जैसी स्वच्छता का पालन करें। खाद्य पदार्थ जो दूषित हो सकते हैं, जैसे कि कच्चे मीट और अंडे, अच्छी तरह से पकान चाहिए।
  • पके और जो कच्चे परोसे जाते हैं खाद्य पदार्थ, उनको किसी भी सतह को नहीं छूना चाहिए जो दूषित हो सकता है।
  • जब आप घर से बाहर की यात्रा करते हैं, तो केवल बोतलबंद पानी, कार्बोनेटेड पेय और गर्म पके हुए खाद्य पदार्थों को पीना सबसे अच्छा है।
  • ताजे फल और सब्जियों से बचें, अपने आप को उन तक सीमित करें जिन्हें आप खुद छील सकते हैं।
  • अनअपेक्षित डेयरी उत्पादों से बचें।
  • आमतौर पर स्ट्रीट वेंडर्स का खाना सुरक्षित नहीं माना जाता है।

    यदि आपके घर के किसी व्यक्ति को संक्रमण है, जो दस्त का कारण बन रहा है, तो परिवार के सभी सदस्यों द्वारा सावधानीपूर्वक हाथ धोन चाहिए, और संक्रमित व्यक्ति को संक्रमण के समाप्त होने तक दूसरों के लिए भोजन या पेय पदार्थ तैयार नहीं करना चाहिए।

You can share this post!

विशेषज्ञ से सवाल पूछें

पूछें गए सवाल